ArhatShashan

ArhatShashan

Arhat Shashan

आत्म शक्ति का जागरण ये है आनंद॒तीर्थ का अरमान|
व्यक्ती, परिवार और समाज की शक्ति को सही दिशा मिल जाए, सही ऊर्जा सही ऊर्जा से मिल जाए तो विश्वकल्याण का सपना दूर नहीं |
इन तीनों ही आयामों को संभालना जरुरी है|
इसी उद्देश्य से – तीर्थंकर परमात्मा प्रभु महावीर के दिव्या वरदानों को बहोत ही सहजता और सरलता से समाजव्यापी कार्यक्रमों के रूप में
गुरुदेव ने विश्व को प्रदान किये है|
आनंद॒तीर्थ – आनंद लेने का, आनंद देने का और आनंदुमय बनाने का तीर्थ है| परमात्मा प्रभु महावीर और
गुरुअनंद की असीम कृपा से गुरुदेव ऋषी प्रवीण द्वारा अर्हत शासन का निर्मल एक अलौकिक वरदान है|