Bhaktamar

भक्तामर स्तोत्र

भक्तामरप्रणतमौलिमणिप्रभाणा।मुद्योतकंदलितपापतमोवितानम्॥

सम्यक्प्रणम्यजिनपादयुगंयुगादा।वालंबनंभवजलेपततांजनानाम्॥१॥

झुकेहुएभक्तदेवोकेमुकुटजड़ितमणियोंकीप्रथाकोप्रकाशितकरनेवाले,

पापरुपीअंधकारकेसमुहकोनष्टकरनेवाले,

कर्मयुगकेप्रारम्भमेंसंसारसमुन्द्रमेंडूबतेहुएप्राणियोंकेलिये

आलम्बनभूतजिनेन्द्रदेवकेचरणयुगलकोमनवचनकार्यसे

प्रणामकरके (मैंमुनिमानतुंगउनकीस्तुतिकरुँगा)|

***

यःसंस्तुतःसकलवाङ्मयतत्वबोधा।द्उद्भूतबुद्धिपटुभिःसुरलोकनाथैः॥

स्तोत्रैर्जगत्त्रितयचित्तहरैरुदरैः।स्तोष्येकिलाहमपितंप्रथमंजिनेन्द्रम्॥२॥

सम्पूर्णश्रुतज्ञानसेउत्पन्नहुईबुद्धिकीकुशलतासे

इन्द्रोंकेद्वारातीनलोककेमनकोहरनेवाले,

गंभीरस्तोत्रोंकेद्वाराजिनकीस्तुतिकीगईहै

उनआदिनाथजिनेन्द्रकीनिश्चयहीमैं (मानतुंग) भीस्तुतिकरुँगा|

***

बुद्ध्याविनाऽपिविबुधार्चितपादपीठ।स्तोतुंसमुद्यतमतिर्विगतत्रपोऽहम्॥

बालंविहायजलसंस्थितमिन्दुबिम्ब।मन्यःकइच्छतिजनःसहसाग्रहीतुम्॥३॥

देवोंकेद्वारापूजितहैंसिंहासनजिनका, ऐसेहेजिनेन्द्रमैंबुद्धि

रहितहोतेहुएभीनिर्लज्जहोकरस्तुतिकरनेकेलिये

तत्परहुआहूँक्योंकिजलमेंस्थितचन्द्रमाकेप्रतिबिम्बकोबालक

कोछोड़करदूसराकौनमनुष्यसहसापकड़नेकीइच्छाकरेगा?अर्थात्कोईनहीं|

***

वक्तुंगुणान्गुणसमुद्रशशाङ्क्कान्तान्।कस्तेक्षमःसुरगुरुप्रतिमोऽपिबुद्ध्या॥

कल्पान्तकाल्पवनोद्धतनक्रचक्रं।कोवातरीतुमलमम्बुनिधिंभुजाभ्याम्॥४॥

हेगुणोंकेभंडार! आपकेचन्द्रमाकेसमानसुन्दरगुणोंकोकहने

लियेब्रहस्पतिकेसद्रशभीकौनपुरुषसमर्थहै?अर्थात्कोईनहीं|

अथवाप्रलयकालकीवायुकेद्वाराप्रचण्डहैमगरमच्छोंकासमूह

जिसमेंऐसेसमुद्रकोभुजाओंकेद्वारातैरनेकेलिएकौनसमर्थहैअर्थात्कोईनहीं|

सोऽहंतथापितवभक्तिवशान्मुनीश।कर्तुंस्तवंविगतशक्तिरपिप्रवृत्तः॥

प्रीत्यऽऽत्मवीर्यमविचार्यमृगोमृगेन्द्रं।नाभ्येतिकिंनिजशिशोःपरिपालनार्थम्॥५॥

हेमुनीश! तथापि-शक्तिरहितहोताहुआभी, मैं- अल्पज्ञ,

भक्तिवश, आपकीस्तुतिकरनेकोतैयारहुआहूँ| हरिणि, अपनी

शक्तिकाविचारनकर, प्रीतिवशअपनेशिशुकीरक्षाकेलिये,

क्यासिंहकेसामनेनहींजाती?अर्थातजातीहैं|

***

अल्पश्रुतंश्रुतवतांपरिहासधाम्।त्वद्भक्तिरेवमुखरीकुरुतेबलान्माम्॥

यत्कोकिलःकिलमधौमधुरंविरौति।तच्चाम्र-चारु-कलिका-निकरैक-हेतु॥६॥

विद्वानोंकीहँसीकेपात्र, मुझअल्पज्ञानीकोआपकीभक्तिही

बोलनेकोविवशकरतीहैं| बसन्तऋतुमेंकोयलजोमधुरशब्द

करतीहैउसमेंनिश्चयसेआम्रकलिकाहीएकमात्रकारणहैं|

****

त्वत्संस्तवेनभवसंततिसन्निबद्धं।पापंक्षणात्क्षयमुपैतिशरीरभाजाम्॥

आक्रान्तलोकमलिनीलमशेषमाशु।सूर्यांशुभिन्नमिवशार्वरमन्धकारम्॥७॥

आपकीस्तुतिसे, प्राणियोंके, अनेकजन्मोंमेंबाँधेगये

पापकर्मक्षणभरमेंनष्टहोजातेहैंजैसेसम्पूर्णलोक

मेंव्याप्तरात्रीकाअंधकारसूर्यकीकिरणों

सेक्षणभरमेंछिन्नभिन्नहोजाताहै|

***

मत्वेतिनाथ्! तव्संस्तवनंमयेद।मारभ्यतेतनुधियापितवप्रभावात्॥

चेतोहरिष्यतिसतांनलिनीदलेषु।मुक्ताफलद्युतिमुपैतिननूदबिन्दुः॥८॥

हेस्वामिन्! ऐसामानकरमुझमन्दबुद्धिकेद्वाराभीआपकायह

स्तवनप्रारम्भकियाजाताहै, जोआपकेप्रभावसेसज्जनों

केचित्तकोहरेगा| निश्चयसेपानीकीबूँद

कमलिनीकेपत्तोंपरमोतीकेसमानशोभाकोप्राप्तकरतीहैं|

***

आस्तांतवस्तवनमस्तसमस्तदोषं।त्वत्संकथाऽपिजगतांदुरितानिहन्ति॥

दूरेसहस्त्रकिरणःकुरुतेप्रभैव।पद्माकरेषुजलजानिविकाशभांजि॥९॥

सम्पूर्णदोषोंसेरहितआपकास्तवनतोदूर,

आपकीपवित्रकथाभीप्राणियोंकेपापोंकानाशकरदेतीहै|

जैसे, सूर्यतोदूर, उसकीप्रभाही

सरोवरमेंकमलोंकोविकसितकरदेतीहै|

***

नात्यद्भूतंभुवनभुषणभूतनाथ।भूतैर्गुणैर्भुविभवन्तमभिष्टुवन्तः॥

तुल्याभवन्तिभवतोननुतेनकिंवा।भूत्याश्रितंयइहनात्मसमंकरोति॥१०॥

हेजगत्केभूषण! हेप्राणियोंकेनाथ! सत्यगुणोंकेद्वाराआपकी

स्तुतिकरनेवालेपुरुषपृथ्वीपरयदिआपकेसमानहोजातेहैं

तोइसमेंअधिकआश्चर्यनहींहै| क्योंकिउसस्वामीसेक्याप्रयोजन,

जोइसलोकमेंअपनेअधीनपुरुषकोसम्पत्तिकेद्वाराअपनेसमाननहींकरलेता |

***

दृष्टवाभवन्तमनिमेषविलोकनीयं।नान्यत्रतोषमुपयातिजनस्यचक्षुः॥

पीत्वापयःशशिकरद्युतिदुग्धसिन्धोः।क्षारंजलंजलनिधेरसितुंकइच्छेत्॥११॥

हेअभिमेषदर्शनीयप्रभो! आपकेदर्शनकेपश्चात्

मनुष्योंकेनेत्रअन्यत्रसन्तोषकोप्राप्तनहींहोते|

चन्द्रकीर्तिकेसमाननिर्मलक्षीरसमुद्रकेजलकोपीकर

कौनपुरुषसमुद्रकेखारेपानीकोपीनाचाहेगा?अर्थात्कोईनहीं |

***

यैःशान्तरागरुचिभिःपरमाणुभिस्तवं।निर्मापितस्त्रिभुवनैकललामभूत॥

तावन्तएवखलुतेऽप्यणवःपृथिव्यां।यत्तेसमानमपरंनहिरूपमस्ति॥१२॥

हेत्रिभुवनकेएकमात्रआभुषणजिनेन्द्रदेव! जिनरागरहित

सुन्दरपरमाणुओंकेद्वाराआपकीरचनाहुईवेपरमाणु

पृथ्वीपरनिश्चयसेउतनेहीथेक्योंकिआपकेसमानदूसरारूपनहींहै |

***

वक्त्रंक्वतेसुरनरोरगनेत्रहारि।निःशेषनिर्जितजगत्त्रितयोपमानम्॥

बिम्बंकलङ्कमलिनंक्वनिशाकरस्य।यद्वासरेभवतिपांडुपलाशकल्पम्॥१३॥

हेप्रभो! सम्पूर्णरुपसेतीनोंजगत्कीउपमाओंकाविजेता,

देवमनुष्यतथाधरणेन्द्रकेनेत्रोंकोहरनेवालाकहांआपकामुख?

औरकलंकसेमलिन, चन्द्रमाकावहमण्डलकहां?

जोदिनमेंपलाश (ढाक) केपत्तेकेसमानफीकापड़जाता |

***

सम्पूर्णमण्ङलशशाङ्ककलाकलाप्।शुभ्रागुणास्त्रिभुवनंतवलंघयन्ति॥

येसंश्रितास्त्रिजगदीश्वरनाथमेकं।कस्तान्निवारयतिसंचरतोयथेष्टम्॥१४॥

पूर्णचन्द्रकीकलाओंकेसमानउज्ज्वलआपकेगुण,

तीनोंलोकोमेंव्याप्तहैंक्योंकिजोअद्वितीय

त्रिजगत्केभीनाथकेआश्रितहैंउन्हें

इच्छानुसारघुमतेहुएकौनरोकसकताहैं?कोईनहीं |

***

चित्रंकिमत्रयदितेत्रिदशांगनाभिर्।नीतंमनागपिमनोनविकारमार्गम्॥

कल्पान्तकालमरुताचलिताचलेन।किंमन्दराद्रिशिखिरंचलितंकदाचित्॥१५॥

यदिआपकामनदेवागंनाओंकेद्वाराकिंचित्भी

विक्रतिकोप्राप्तनहींकरायाजासका, तोइसविषयमेंआश्चर्यहीक्याहै?

पर्वतोंकोहिलादेनेवालीप्रलयकालकीपवनकेद्वारा

क्याकभीमेरुकाशिखरहिलसकाहै? नहीं |

***

निर्धूमवर्तिपवर्जिततैलपूरः।कृत्स्नंजगत्त्रयमिदंप्रकटीकरोषि॥

गम्योनजातुमरुतांचलिताचलानां।दीपोऽपरस्त्वमसिनाथ्जगत्प्रकाशः॥१६॥

हेस्वामिन्! आपधूमतथाबातीसेरहित, तेलकेप्रवाहकेबिनाभी

इससम्पूर्णलोककोप्रकटकरनेवालेअपूर्वजगत्

प्रकाशकदीपकहैंजिसेपर्वतोंकोहिलादेने

वालीवायुभीकभीबुझानहींसकती |

***

नास्तंकादाचिदुपयासिनराहुगम्यः।स्पष्टीकरोषिसहसायुगपज्जगन्ति॥

नाम्भोधरोदरनिरुद्धमहाप्रभावः।सूर्यातिशायिमहिमासिमुनीन्द्र! लोके॥१७॥

हेमुनीन्द्र! आपनतोकभीअस्तहोतेहैंनहीराहुकेद्वाराग्रसेजातेहैं

औरनआपकामहानतेजमेघसेतिरोहितहोताहै

आपएकसाथतीनोंलोकोंकोशीघ्रहीप्रकाशितकरदेतेहैं

अतःआपसूर्यसेभीअधिकमहिमावन्तहैं |

***

नित्योदयंदलितमोहमहान्धकारं।गम्यंनराहुवदनस्यनवारिदानाम्॥

विभ्राजतेतवमुखाब्जमनल्पकान्ति।विद्योतयज्जगदपूर्वशशाङ्कबिम्बम्॥१८॥

हमेशाउदितरहनेवाला, मोहरुपीअंधकारकोनष्टकरनेवाला

जिसेनतोराहुग्रससकताहै, नहीमेघआच्छादितकरसकतेहैं,

अत्यधिककान्तिमान, जगतकोप्रकाशितकरनेवाला

आपकामुखकमलरुपअपूर्वचन्द्रमण्डलशोभितहोताहै |

***

किंशर्वरीषुशशिनाऽह्निविवस्वतावा।युष्मन्मुखेन्दुदलितेषुतमस्सुनाथ॥

निष्मन्नशालिवनशालिनिजीवलोके।कार्यंकियज्जलधरैर्जलभारनम्रैः॥१९॥

हेस्वामिन्! जबअंधकारआपकेमुखरुपीचन्द्रमाकेद्वारा

नष्टहोजाताहैतोरात्रिमेंचन्द्रमासेएवंदिनमेंसूर्यसेक्याप्रयोजन?

पकेहुएधान्यकेखेतोंसेशोभायमानधरतीतलपर

पानीकेभारसेझुकेहुएमेघोंसेफिरक्याप्रयोजन |

***

ज्ञानंयथात्वयिविभातिकृतावकाशं।नैवंतथाहरिहरादिषुनायकेषु॥

तेजःस्फुरन्मणिषुयातियथामहत्वं।नैवंतुकाचशकलेकिरणाकुलेऽपि॥२०॥

अवकाशकोप्राप्तज्ञानजिसप्रकारआपमेंशोभितहोताहै

वैसाविष्णुमहेशआदिदेवोंमेंनहीं | कान्तिमानमणियोंमें,

तेजजैसेमहत्वकोप्राप्तहोताहैवैसे

किरणोंसेव्याप्तभीकाँचकेटुकड़ेमेंनहींहोता |

***

मन्येवरंहरिहरादयएवदृष्टा।दृष्टेषुयेषुहृदयंत्वयितोषमेति॥

किंवीक्षितेनभवताभुवियेननान्यः।कश्चिन्मनोहरतिनाथ! भवान्तरेऽपि॥२१॥

हेस्वामिन्| देखेगयेविष्णुमहादेवहीमैंउत्तममानताहूँ,

जिन्हेंदेखलेनेपरमनआपमेंसन्तोषकोप्राप्तकरताहै|

किन्तुआपकोदेखनेसेक्यालाभ?जिससेकिप्रथ्वीपर

कोईदूसरादेवजन्मान्तरमेंभीचित्तकोनहींहरपाता |

***

स्त्रीणांशतानिशतशोजनयन्तिपुत्रान्।नान्यासुतंत्वदुपमंजननीप्रसूता॥

सर्वादिशोदधतिभानिसहस्त्ररश्मिं।प्राच्येवदिग्जनयतिस्फुरदंशुजालं॥२२॥

सैकड़ोंस्त्रियाँसैकड़ोंपुत्रोंकोजन्मदेतीहैं, परन्तुआपजैसे

पुत्रकोदूसरीमाँउत्पन्ननहींकरसकी| नक्षत्रोंकोसभीदिशायें

धारणकरतीहैंपरन्तुकान्तिमान्किरणसमूहसे

युक्तसूर्यकोपूर्वदिशाहीजन्मदेतीहैं |

***

त्वामामनन्तिमुनयःपरमंपुमांस।मादित्यवर्णममलंतमसःपरस्तात्॥

त्वामेवसम्यगुपलभ्यजयंतिमृत्युं।नान्यःशिवःशिवपदस्यमुनीन्द्र! पन्थाः॥२३॥

हेमुनीन्द्र! तपस्वीजनआपकोसूर्यकीतरहतेजस्वीनिर्मल

औरमोहान्धकारसेपरेरहनेवालेपरमपुरुषमानतेहैं |

वेआपकोहीअच्छीतरहसेप्राप्तकरम्रत्युकोजीततेहैं |

इसकेसिवायमोक्षपदकादूसराअच्छारास्तानहींहै|

***

त्वामव्ययंविभुमचिन्त्यमसंख्यमाद्यं।ब्रह्माणमीश्वरम्अनंतमनंगकेतुम्॥

योगीश्वरंविदितयोगमनेकमेकं।ज्ञानस्वरूपममलंप्रवदन्तिसन्तः॥२४॥

सज्जनपुरुषआपकोशाश्वत, विभु, अचिन्त्य, असंख्य, आद्य,

ब्रह्मा, ईश्वर, अनन्त, अनंगकेतु, योगीश्वर, विदितयोग,

अनेक, एकज्ञानस्वरुपऔरअमलकहतेहैं |

***

बुद्धस्त्वमेवविबुधार्चितबुद्धिबोधात्।त्वंशंकरोऽसिभुवनत्रयशंकरत्वात्॥

धाताऽसिधीर! शिवमार्गविधेर्विधानात्।व्यक्तंत्वमेवभगवन्! पुरुषोत्तमोऽसि॥२५॥

देवअथवाविद्वानोंकेद्वारापूजितज्ञानवालेहोनेसेआपहीबुद्धहैं|

तीनोंलोकोंमेंशान्तिकरनेकेकारणआपहीशंकरहैं|

हेधीर! मोक्षमार्गकीविधिकेकरनेवालेहोनेसेआपहीब्रह्माहैं|

औरहेस्वामिन्! आपहीस्पष्टरुपसेमनुष्योंमेंउत्तमअथवानारायणहैं |

***

तुभ्यंनमस्त्रिभुवनार्तिहरायनाथ।तुभ्यंनमःक्षितितलामलभूषणाय॥

तुभ्यंनमस्त्रिजगतःपरमेश्वराय।तुभ्यंनमोजिन! भवोदधिशोषणाय॥२६॥

हेस्वामिन्! तीनोंलोकोंकेदुःखकोहरनेवालेआपकोनमस्कारहो,

प्रथ्वीतलकेनिर्मलआभुषणस्वरुपआपकोनमस्कारहो,

तीनोंजगत्केपरमेश्वरआपकोनमस्कारहोऔर

संसारसमुन्द्रकोसुखादेनेवालेआपकोनमस्कारहो|

***

कोविस्मयोऽत्रयदिनामगुणैरशेषैस्।त्वंसंश्रितोनिरवकाशतयामुनीश! ॥

दोषैरूपात्तविविधाश्रयजातगर्वैः।स्वप्नान्तरेऽपिनकदाचिदपीक्षितोऽसि॥२७॥

हेमुनीश! अन्यत्रस्थाननमिलनेकेकारणसमस्तगुणोंने

यदिआपकाआश्रयलियाहोतोतथाअन्यत्रअनेकआधारोंको

प्राप्तहोनेसेअहंकारकोप्राप्तदोषोंनेकभीस्वप्नमें

भीआपकोनदेखाहोतोइसमेंक्याआश्चर्य?

***

उच्चैरशोकतरुसंश्रितमुन्मयूख।माभातिरूपममलंभवतोनितान्तम्॥

स्पष्टोल्लसत्किरणमस्ततमोवितानं।बिम्बंरवेरिवपयोधरपार्श्ववर्ति॥२८॥

ऊँचेअशोकवृक्षकेनीचेस्थित, उन्नतकिरणोंवाला,

आपकाउज्ज्वलरुपजोस्पष्टरुपसेशोभायमानकिरणोंसेयुक्तहै,

अंधकारसमूहकेनाशक, मेघोंकेनिकटस्थितसूर्य

बिम्बकीतरहअत्यन्तशोभितहोताहै |

***

सिंहासनेमणिमयूखशिखाविचित्रे।विभ्राजतेतववपुःकनकावदातम्॥

बिम्बंवियद्विलसदंशुलतावितानं।तुंगोदयाद्रिशिरसीवसहस्त्ररश्मेः॥२९॥

मणियोंकीकिरण-ज्योतिसेसुशोभितसिंहासनपर,

आपकासुवर्णकितरहउज्ज्वलशरीर, उदयाचलकेउच्चशिखरपर

आकाशमेंशोभित, किरणरुपलताओंकेसमूहवाले

सूर्यमण्डलकीतरहशोभायमानहोरहाहै|

***

कुन्दावदातचलचामरचारुशोभं।विभ्राजतेतववपुःकलधौतकान्तम्॥

उद्यच्छशांकशुचिनिर्झरवारिधार।मुच्चैस्तटंसुरगिरेरिवशातकौम्भम्॥३०॥

कुन्दकेपुष्पकेसमानधवलचँवरोंकेद्वारासुन्दरहैशोभाजिसकी,

ऐसाआपकास्वर्णकेसमानसुन्दरशरीर, सुमेरुपर्वत,

जिसपरचन्द्रमाकेसमानउज्ज्वलझरनेकेजलकीधाराबहरहीहै,

केस्वर्णनिर्मितऊँचेतटकीतरहशोभायमानहोरहाहै|

***

छत्रत्रयंतवविभातिशशांककान्त।मुच्चैःस्थितंस्थगितभानुकरप्रतापम्॥

मुक्ताफलप्रकरजालविवृद्धशोभं।प्रख्यापयत्त्रिजगतःपरमेश्वरत्वम्॥३१॥

चन्द्रमाकेसमानसुन्दर, सूर्यकीकिरणोंकेसन्तापकोरोकनेवाले,

तथामोतियोंकेसमूहोंसेबढ़तीहुईशोभाकोधारणकरनेवाले,

आपकेऊपरस्थिततीनछत्र, मानोआपके

तीनलोककेस्वामित्वकोप्रकटकरतेहुएशोभितहोरहेहैं|

***

गम्भीरतारवपूरितदिग्विभागस्।त्रैलोक्यलोकशुभसंगमभूतिदक्षः॥

सद्धर्मराजजयघोषणघोषकःसन्।खेदुन्दुभिर्ध्वनतितेयशसःप्रवादी॥३२॥

गम्भीरऔरउच्चशब्दसेदिशाओंकोगुञ्जायमानकरनेवाला,

तीनलोककेजीवोंकोशुभविभूतिप्राप्तकरानेमेंसमर्थ

औरसमीचीनजैनधर्मकेस्वामीकीजयघोषणाकरनेवाला

दुन्दुभिवाद्यआपकेयशकागानकरताहुआआकाशमेंशब्दकरताहै|

***

मन्दारसुन्दरनमेरूसुपारिजात।सन्तानकादिकुसुमोत्कर- वृष्टिरुद्धा॥

गन्धोदबिन्दुशुभमन्दमरुत्प्रपाता।दिव्यादिवःपतिततेवचसांततिर्वा॥३३॥

सुगंधितजलबिन्दुओंऔरमन्दसुगन्धितवायुकेसाथगिरनेवाले

श्रेष्ठमनोहरमन्दार, सुन्दर, नमेरु, पारिजात, सन्तानकआदि

कल्पवृक्षोंकेपुष्पोंकीवर्षाआपकेवचनोंकी

पंक्तियोंकीतरहआकाशसेहोतीहै|

***

शुम्भत्प्रभावलयभूरिविभाविभोस्ते।लोकत्रयेद्युतिमतांद्युतिमाक्षिपन्ती॥

प्रोद्यद्दिवाकरनिरन्तरभूरिसंख्या।दीप्त्याजयत्यपिनिशामपिसोमसौम्याम्॥३४॥

हेप्रभो! तीनोंलोकोंकेकान्तिमानपदार्थोंकीप्रभाको

तिरस्कृतकरतीहुईआपकेमनोहरभामण्डलकीविशालकान्ति

एकसाथउगतेहुएअनेकसूर्योंकीकान्तिसेयुक्तहोकरभी

चन्द्रमासेशोभितरात्रिकोभीजीतरहीहै|

***

स्वर्गापवर्गगममार्गविमार्गणेष्टः।सद्धर्मतत्वकथनैकपटुस्त्रिलोक्याः॥

दिव्यध्वनिर्भवतितेविशदार्थसत्व।भाषास्वभावपरिणामगुणैःप्रयोज्यः॥३५॥

आपकीदिव्यध्वनिस्वर्गऔरमोक्षमार्गकीखोजमेंसाधक,

तीनलोककेजीवोंकोसमीचीनधर्मकाकथनकरनेमेंसमर्थ,

स्पष्टअर्थवाली, समस्तभाषाओंमेंपरिवर्तित

करनेवालेस्वाभाविकगुणसेसहितहोतीहै|

***

उन्निद्रहेमनवपंकजपुंजकान्ती।पर्युल्लसन्नखमयूखशिखाभिरामौ॥

पादौपदानितवयत्रजिनेन्द्र! धत्तः।पद्मानितत्रविबुधाःपरिकल्पयन्ति॥३६॥

पुष्पितनवस्वर्णकमलोंकेसमानशोभायमाननखोंकी

किरणप्रभासेसुन्दरआपकेचरणजहाँपड़तेहैं

वहाँदेवगणस्वर्णकमलरचदेतेहैं|

***

इत्थंयथातवविभूतिरभूज्जिनेन्द्र।धर्मोपदेशनविधौनतथापरस्य॥

यादृक्प्रभादिनकृतःप्रहतान्धकारा।तादृक्कुतोग्रहगणस्यविकाशिनोऽपि॥३७॥

हेजिनेन्द्र! इसप्रकारधर्मोपदेशकेकार्यमेंजैसाआपका

ऐश्वर्यथावैसाअन्यकिसीकानहीहुआ| अंधकारकोनष्टकरने

वालीजैसीप्रभासूर्यकीहोतीहैवैसीअन्य

प्रकाशमानभीग्रहोंकीकैसेहोसकतीहै?

***

श्च्योतन्मदाविलविलोलकपोलमूल।मत्तभ्रमद्भ्रमरनादविवृद्धकोपम्॥

ऐरावताभमिभमुद्धतमापतन्तं।दृष्ट्वाभयंभवतिनोभवदाश्रितानाम्॥३८॥

आपकेआश्रितमनुष्योंको, झरतेहुएमदजलसेजिसके

गण्डस्थलमलीन, कलुषिततथाचंचलहोरहेहैऔरउनपर

उन्मत्तहोकरमंडरातेहुएकालेरंगकेभौरेअपनेगुजंनसेक्रोधबढा़रहेहों

ऐसेऐरावतकीतरहउद्दण्ड, सामनेआतेहुएहाथीकोदेखकरभीभयनहींहोता|

***

भिन्नेभकुम्भगलदुज्जवलशोणिताक्त।मुक्ताफलप्रकरभूषितभुमिभागः॥

बद्धक्रमःक्रमगतंहरिणाधिपोऽपि।नाक्रामतिक्रमयुगाचलसंश्रितंते॥३९॥

सिंह, जिसनेहाथीकागण्डस्थलविदीर्णकर,

गिरतेहुएउज्ज्वलतथारक्तमिश्रितगजमुक्ताओंसेपृथ्वीतलको

विभूषितकरदियाहैतथाजोछलांगमारनेकेलियेतैयारहै

वहभीअपनेपैरोंकेपासआयेहुएऐसेपुरुषपरआक्रमणनहींकरता

जिसनेआपकेचरणयुगलरुपपर्वतकाआश्रयलेरखाहै|

***

कल्पांतकालपवनोद्धतवह्निकल्पं।दावानलंज्वलितमुज्जवलमुत्स्फुलिंगम्॥

विश्वंजिघत्सुमिवसम्मुखमापतन्तं।त्वन्नामकीर्तनजलंशमयत्यशेषम्॥४०॥

आपकेनामयशोगानरुपीजल, प्रलयकालकीवायुसेउद्धत,

प्रचण्डअग्निकेसमानप्रज्वलित, उज्ज्वलचिनगारियोंसेयुक्त,

संसारकोभक्षणकरनेकीइच्छारखनेवालेकीतरहसामनेआतीहुई

वनकीअग्निकोपूर्णरुपसेबुझादेताहै|

***

रक्तेक्षणंसमदकोकिलकण्ठनीलं।क्रोधोद्धतंफणिनमुत्फणमापतन्तम्॥

आक्रामतिक्रमयुगेननिरस्तशंकस्।त्वन्नामनागदमनीहृदियस्यपुंसः॥४१॥

जिसपुरुषकेह्रदयमेंनामरुपी-नागदौननामकऔषधमौजूदहै,

वहपुरुषलाललालआँखोवाले, मदयुक्तकोयलकेकण्ठकीतरहकाले,

क्रोधसेउद्धतऔरऊपरकोफणउठायेहुए,

सामनेआतेहुएसर्पकोनिश्शंकहोकरदोनोंपैरोसेलाँघजाताहै|

***

वल्गत्तुरंगगजगर्जितभीमनाद।माजौबलंबलवतामपिभूपतिनाम्! ॥

उद्यद्दिवाकरमयूखशिखापविद्धं।त्वत्- कीर्तनात्तमइवाशुभिदामुपैति॥४२॥

आपकेयशोगानसेयुद्धक्षेत्रमेंउछलतेहुएघोडे़औरहाथियोंकीगर्जनासे

उत्पनभयंकरकोलाहलसेयुक्तपराक्रमीराजाओंकीभीसेना,

उगतेहुएसूर्यकिरणोंकीशिखासेवेधेगये

अंधकारकीतरहशीघ्रहीनाशकोप्राप्तहोजातीहै|

***

कुन्ताग्रभिन्नगजशोणितवारिवाह।वेगावतारतरणातुरयोधभीमे॥

युद्धेजयंविजितदुर्जयजेयपक्षास्।त्वत्पादपंकजवनाश्रयिणोलभन्ते॥४३॥

हेभगवन्आपकेचरणकमलरुपवनकासहारालेनेवालेपुरुष,

भालोंकीनोकोंसेछेदगयेहाथियोंकेरक्तरुपजलप्रवाहमेंपडे़हुए,

तथाउसेतैरनेकेलियेआतुरहुएयोद्धाओंसेभयानकयुद्धमें,

दुर्जयशत्रुपक्षकोभीजीतलेतेहैं|

***

अम्भौनिधौक्षुभितभीषणनक्रचक्र।पाठीनपीठभयदोल्बणवाडवाग्नौ॥

रंगत्तरंगशिखरस्थितयानपात्रास्।त्रासंविहायभवतःस्मरणाद्व्रजन्ति॥४४॥

क्षोभकोप्राप्तभयंकरमगरमच्छोंकेसमूहऔरमछलियोंकेद्वारा

भयभीतकरनेवालेदावानलसेयुक्तसमुद्रमेंविकराललहरोंके

शिखरपरस्थितहैजहाजजिनका, ऐसेमनुष्य,

आपकेस्मरणमात्रसेभयछोड़करपारहोजातेहैं|

***

उद्भूतभीषणजलोदरभारभुग्नाः।शोच्यांदशामुपगताश्च्युतजीविताशाः॥

त्वत्पादपंकजरजोऽमृतदिग्धदेहा।मर्त्याभवन्तिमकरध्वजतुल्यरूपाः॥४५॥

उत्पन्नहुएभीषणजलोदररोगकेभारसेझुकेहुए,

शोभनीयअवस्थाकोप्राप्तऔरनहींरहीहैजीवनकीआशाजिनके,

ऐसेमनुष्यआपकेचरणकमलोंकीरजरुपअम्रतसेलिप्त

शरीरहोतेहुएकामदेवकेसमानरुपवालेहोजातेहैं|

***

आपादकण्ठमुरूश्रृंखलवेष्टितांगा।गाढंबृहन्निगडकोटिनिघृष्टजंघाः॥

त्वन्नाममंत्रमनिशंमनुजाःस्मरन्तः।सद्यःस्वयंविगतबन्धभयाभवन्ति॥४६॥

जिनकाशरीरपैरसेलेकरकण्ठपर्यन्तबडी़-बडी़सांकलोंसेजकडा़हुआहै

औरविकटसघनबेड़ियोंसेजिनकीजंघायेंअत्यन्तछिलगईंहैं

ऐसेमनुष्यनिरन्तरआपकेनाममंत्रकोस्मरण

करतेहुएशीघ्रहीबन्धनमुक्तहोजातेहै|

***

मत्तद्विपेन्द्रमृगराजदवानलाहि।संग्रामवारिधिमहोदरबन्धनोत्थम्॥

तस्याशुनाशमुपयातिभयंभियेव।यस्तावकंस्तवमिमंमतिमानधीते॥४७॥

जोबुद्धिमानमनुष्यआपकेइसस्तवनकोपढ़ताहै

उसकामत्तहाथी, सिंह, दवानल, युद्ध, समुद्र

जलोदररोगऔरबन्धनआदिसेउत्पन्नभयमानो

डरकरशीघ्रहीनाशकोप्राप्तहोजाताहै|

***

स्तोत्रस्त्रजंतवजिनेन्द्र! गुणैर्निबद्धां।भक्त्यामयाविविधवर्णविचित्रपुष्पाम्॥

धत्तेजनोयइहकंठगतामजस्रं।तंमानतुंगमवशासमुपैतिलक्ष्मीः॥४८॥

हेजिनेन्द्रदेव! इसजगत्मेंजोलोगमेरेद्वाराभक्तिपूर्वक (ओज, प्रसाद, माधुर्यआदि)

गुणोंसेरचीगईनानाअक्षररुप, रंगबिरंगेफूलोंसेयुक्तआपकी

स्तुतिरुपमालाकोकंठाग्रकरताहैउसउन्नतसम्मानवालेपुरुषको

अथवाआचार्यमानतुंगकोस्वर्गमोक्षादिकीविभूतिअवश्यप्राप्तहोतीहै|