अर्हम पुरुषाकार साधना का अनुभव

🙏इच्छाकारेणं संदीसह भगवं 🙏
🙏 देवगुरुकृपासे 🙏

मेरे पिताजी श्री शांतिलालजी ओस्तवाल को सितंबर 2020 में कैन्सर detect हुआ था। मैंने मेरे गुरुदेव उपाध्याय श्री प्रवीण ऋषिजी से संपर्क किया तो उन्होंने अर्हम पुरुषाकार साधना करने के लिए कहा। साधना सीखने के लिए गुरुदेव ने श्रीमती सपनाजी कोचर से साधना लेने के लिये कहाँ। जब cancer detect हुआ था तब डॉक्टर ने इस बीमारी से उभरने के लिए कमसे कम एक से डेढ़ साल लगेगा, 9 से 12 मेडिसिन के cycle लगेंगे तथा जनवरी के मध्य सर्जरी भी करनी होगी इस तरह का treatment protocol बताया था। गुरुदेव के आशीर्वाद से 10 सितंबर, 2020 को सपनाजी ने online zoom के माध्यम से अर्हम पुरुषाकार की साधना सिखाना चालू किया, सपनाजी ने हर वक्त घंटो तक online साधना करवाकर ली। जिस लगन से सपनाजी ने साधना सिखायी वो मेरे लिए अवर्णनीय है। उस दिन से आज तक मेरे पूज्य पिताजी उस साधना को निरंतर कर रहे है और मेरे पिताजी के 3 मेडिसिन के साइकल पूर्ण होने के पश्चात 21 जनवरी, 2021 को जब पुनः सब टेस्ट किए तब लगभग मेरे पिताजी का cancer पूरी तरह से ठीक हो गया था तथा डॉक्टर ने सितंबर में बतायी हुयी सर्जरी की भी ज़रूरत नही रही, इससे डॉक्टर भी बहुत आश्चर्यचकित रहे और उनके जीवन में भी यह पहला प्रसंग था जब कोई इस बीमारी का patient 9 मेडिसिन cycle से पहले ठीक हुआ। मुझे विश्वास है की ये सब देव-गुरु-धर्म कृपा से, परम पूज्य प्रवीण ऋषिजी महाराज साहब के कृपा से और निरंतर अर्हम पुरुषाकार की साधना से ये चमत्कार हुआ है। मै परम पूज्य प्रवीण ऋषि जी महाराज साहब की और अर्हम विज्जा की अत्यंत-अत्यंत ऋणी हूं ।